गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है? GoldFish Ka Scientific Naam Kya hai

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है?  यह सवाल बहुत लोगों के मन में रहता है.  तो आज हम इसी बारे में बात करेंगे. गोल्डफिश  लड़का मछली होता है,  जो कि बहुत ही आकर्षक होता है. गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम  जानने से पहले इसके बारे में जान ले. कि यह मछली कहां सबसे पहली देखी गई थी.

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

गोल्डफिश   मछली यह दिखने में बहुत ही आकर्षक होता है.  इस मछली का रंग गोल्डन कलर होने के कारण इसका नाम गोल्डन फिश पड़ा.  लेकिन इस का साइंटिफिक नाम क्या है. गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम  नीचे दिया गया है. 

‎Goldfish Scientific Name | गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है.

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम Carassius auratus  है.  लेकिन आमतौर पर इस मछली को गोल्डन फिश के ही नाम से जाना जाता है.  यह मछली दुनिया भर में बहुत ज्यादा पॉपुलर है.  गोल्डन फिश को सबसे ज्यादा सजाने में यूज किया जाता है. इस मछली को हिंदी में सुनहरी मछली के नाम से जाना जाता है. क्योंकि या मछली सोने के कलर की होती है.

गोल्डफिश को सबसे पहले चीन में पाया गया था. इसी कारण से गोल्डन फिश की संख्या चीन में सबसे ज्यादा है. गोल्डफिश को मूल्य रूप से चीन का ही माना जाता है. चीन के बाद यह मछली धीरे-धीरे सभी देशों में आने लगा. उसके बाद यह दुनिया में फैल गया. और अधिकतर जनसंख्या इस मछली को गोल्डफिश के नाम से ही जाना करते हैं.

Goldfish  बारे में और भी जानकारियां.

गोल्डफिश एक प्रकार की मछली है जो पालतू जानवर के रूप में लोकप्रिय हैं। वे कई अलग-अलग रंगों में आते हैं, और कुछ लोग उन्हें कुछ रंग प्राप्त करने के लिए प्रजनन करते हैं। ठीक से देखभाल करने पर गोल्डफिश कई सालों तक रह सकता है।

गोल्डफिश को चारों ओर तैरने के लिए बहुत सी जगह चाहिए, इसलिए एक बड़ा टैंक सबसे अच्छा है। उन्हें पानी को साफ रखने और एक हीटर को सही तापमान पर रखने के लिए एक फ़िल्टर की भी आवश्यकता होती है। गोल्डफिश अधिकांश प्रकार के भोजन खाएगा, लेकिन एक आहार होना चाहिए जिसमें प्रोटीन और सब्जी दोनों पदार्थ शामिल हों।

ये रंगीन मछली विभिन्न आकारों में आती हैं और कई अलग-अलग रंग जैसे ऑरेंज, पीले, नीले, लाल, सफेद और काले रंग के चमक के साथ काले रंग के होते हैं। सामान्य गोल्डफिश 12 इंच (30 सेमी) तक बढ़ सकता है और उचित देखभाल होने पर 40 साल तक रहता है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page